google.com, pub-1670991415207292, DIRECT, f08c47fec0942fa0 पॉलिटेक्निक परीक्षाओं पर अपना रुख साफ करे हेमन्त सरकार, 15000 छात्रों के बीच बनी हुई है असमंजस की स्थिति, अखिल झारखण्ड पॉलिटेक्निक विद्यार्थी परिषद की माँग - Hindi Top News| हिंदी टॉप न्यूज़

Header Ads

पॉलिटेक्निक परीक्षाओं पर अपना रुख साफ करे हेमन्त सरकार, 15000 छात्रों के बीच बनी हुई है असमंजस की स्थिति, अखिल झारखण्ड पॉलिटेक्निक विद्यार्थी परिषद की माँग



कॉल कांफ्रेंस के जरिये   अखिल झारखण्ड पॉलिटेक्निक विद्यार्थी परिषद ने  राजकीय पॉलिटेक्निक सिमडेगा,  आदित्यपुर, राँची, लातेहार, खरसावां, दुमका, साहिबगंज, जगरनाथपुर, धनबाद, निरसा, बोकारो, सहित झारखण्ड पॉलिटेक्निक के  सभी कॉलेज के छात्रों से परीक्षाओं के ऊपर विचार विमर्श किया गया यह कॉल कांफ्रेंस आदित्यपुर के छात्र अभिषेक कुमार सिमडेगा के छात्र आयुष सिंह और धनबाद के छात्र तुलसी महतो के निगरानी में की गई |परिषद् की और से हंदवारा कश्मीर में हुए आतंकी हमले में शहीद वीर जवानो को दी गई  श्रद्वांजलि| कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु हो रहे प्रयासों की की गई सराहना । आपदा की इस घड़ी में हर संभव सहायता करने को तैयार हैं छात्र। लेकिन सुरक्षा उपाय भी है जरूरी ।

झारखण्ड प्रदेश के लगभग 15000 पॉलिटेक्निक छात्र परीक्षाओं को लेकर हैं असमंजस में जिससे पढ़ाई में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है एक तरफ जँहा यूजीसी ने अपना फाइनल रिपोर्ट परीक्षाओं के ऊपर दे दिया है वँही झारखण्ड सरकार और जेयूटी हाँथ पर हाँथ रखे छात्रों के भविस्य के साथ खिलवाड़ कर रहा है  यूजीसी की फाइनल रिपोर्ट आते ही जँहा देश के सभी राज्यों के विश्वविद्यालय ने अपना अपना प्रेस रिलीज़ जारी कर अपना रुख परीक्षाओं के ऊपर साफ कर दिया है वंही झारखण्ड में अभी तक बोर्ड और सरकार ने अपना रुख साफ नहीं किया है  |जिससे सभी पॉलिटेक्निक छात्रों के बिच असमंजस की इस्तिथि बनी हुई है जेयूटी का कहना है इस पर सरकार निर्णेय लेगी तो फिर सरकार चुप क्यों है परिषद् ने इसके लिए बोर्ड और सरकार से पहले भी अनुरोध किया  जिसके ऊपर अभी तक कोई पहल नहीं की गई है आखिर क्यों बॉर्ड परीक्षाओं के ऊपर चुपी साधे हुए है  प्रथम सेमेस्टर के छात्रों को इससे सबसे जयदा परेशानी का सामना करना पड़ेगा| यूजीसी ने कहा है अगर बोर्ड चाहे तो मध्ययर्गीय छात्रों को इंटरनल असेसमेंट के आधार पर अगले सेमेस्टर में प्रोनोणित किया जा सकता है  बोर्ड को परिषद् के द्वारा निम्न सुझाव दिए जाते है जिसपे बोर्ड  और सरकार जल्द अपना रुख साफ करे नहीं तो हम सभी छात्र पर्दशन के लिए बाध्ये होएंगे -

1- प्रथम सेमेस्टर के छात्रों को बिना संकोच किये दूसरे सेमेस्टर में प्रोनोणित कर दिया जाये क्योंकि प्रथम सेमेस्टर की परीक्षा पूर्व से ही काफी लेट थी और कोरोना वैस्विक महामारी के चलते काफी लेट हो चूका है |
2- सभी मध्यवर्गिए सेमेस्टर के छात्रों को यूजीसु के दिशा निर्देश अनुसार इंटरनल अस्सेस्मेंट्स के आधार पर पास कर दिया जाये |
3- बैकलॉग पेपरों के ऊपर भी अपना रुख साफ करे जेयूटी|

सरकार से अनुरोध है परीक्षाओं के ऊपर अपना रुख साफ करें नहीं तो होगा विरोध प्रदर्शन |हालाँकि कोरोना महामारी के बिच सभी पॉलिटेक्निक छात्र सरकार के साथ हैं और सराकर का निर्णेय ही मान्य होगा किसी प्रकार की कोई विरोध परिषद् के द्वारा नहीं की जाएगी|सरकार को और उच्च, तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग के अपर सचिव को लगभग 2000 ईमेल भेज कर परिषद् के द्वारा इस विषय पर ध्यान आकर्षित कराने की कोशिश की गई है जिसपर अभी तक कोई निर्णेय नहीं लिया गया है |इस कॉल कांफ्रेंस में अभिषेक कुमार  , आयुष सिंह , तुलसी महतो  , मोहम्मद नफीश  , सौरव रॉय , चन्दन मिश्रा  , सुभम गुप्ता अदि लोग शामिल थें |

For News Portal Solution

No comments