google.com, pub-1670991415207292, DIRECT, f08c47fec0942fa0 Kumbh Top News: योगगुरू स्वामी रामदेव जी एवं स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने योग के साथ राष्ट्र भक्ति का संदेश दिया - Hindi Top News | हिंदी टॉप न्यूज़

Header Ads

Kumbh Top News: योगगुरू स्वामी रामदेव जी एवं स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने योग के साथ राष्ट्र भक्ति का संदेश दिया

परमार्थ निकेतन शिविर, अरैल क्षेत्र सेक्टर, 18 संगम के पावन तट पर हजारों की संख्या में आये योग जिज्ञासु योग, ध्यान, प्राणायाम और भारतीय संस्कृति को आत्मसात कर रहे है। प्रातःकाल सूर्यउदय के साथ ही योगगुरू स्वामी रामदेव जी महाराज एवं परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने योग के साथ राष्ट्र भक्ति का संदेश दिया।
सात दिवसीय योग शिविर का आयोजन भारतीय योग संस्थान, परमार्थ निकेतन एवं पतंजलि योगपीठ के संयुक्त तत्वाधान में किया गया। इसमें भारत की 32 से अधिक विख्यात योग संस्थानों के योगाचार्यों ने सहभाग किया। प्रथम चार दिनों तक प्रातःकालीन सत्र में योगगुरू स्वामी रामदेव जी महाराज ने श्रद्धालुओं का मार्गदर्शन किया। 
 योगगुरू स्वामी रामदेव जी महाराज ने सभी श्रद्धालुओं को योग करने का संदेश दिया और आह्वान किया कि योगमय जीवन पद्धति अपनाकर स्वस्थ रहे। उन्होने तनाव निवारण हेतु प्राणायाम का अभ्यास कराया।
  
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने संगम स्नान करने हेतु देश विदेश की धरती से लाखों की संख्या में पधारे श्रद्धालुओं से आह्वान किया कि वे अपने गांवों को स्वच्छ रखें। आज संगम के तट पर यह भक्तों की भीड़ नहीं बल्कि भाव का समुद्र; आस्था का सैलाब दिखायी दे रहा है। भारत के यशस्वी और ऊर्जावान प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी और कर्मयोगी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने जो दिव्य कुम्भ और भव्य कुम्भ की कल्पना दी तथा साथ ही स्वच्छ भारत की जो कल्पना दी वह आज साकार हो गयी। करोड़ों लोग आज प्रयाग की इस धरती पर है फिर भी कहीं कोई कचरा-कूड़ा नहीं है। ऐसी ही स्वच्छता की भावना को लेकर इस संकल्प को लेकर अपने-अपने गावा और घरों को जायें। अपनी गलियों को साफ रखे; अपने गावों को साफ रखें। स्वामी जी ने कहा कि देश में स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत नौ करोड़ शौचालय तो बन गये है लेकिन अब उनका पूरा उपयोग करे, उन्हें स्वच्छ रखें और अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखे, खुले में कोई भी शौच करने न जाये। जल को बचाये। उन्होने कहा कि क्लीन कुम्भ, ग्रीन कुम्भ तो साकार हो रहा है अब कुम्भ से इस संदेश को अपने गांवों में लेकर जाये इस संकल्प को लेकर जायें। यहां उपस्थित लाखों श्रद्धालुओं ने अपने हाथ खड़े कर संकल्प किया कि भारत को स्वच्छ और स्वस्थ बनायेंगे। इस देश के संगम को केवल संगम के तट पर नहीं बल्कि अपने दिलों में जिंदा रखेगे; अपने गांवों में जिंदा रखेगे ताकि स्वच्छता, समरसता और सद्भाव का यह संगम सदैव जिंदा रहे तथा यह देश हमेशा बुलंदियों की ऊचाईयों के शिखर पर रहे। 
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने संगम के तट से संदेश दिया आतंकवाद से अध्यात्मवाद की ओर चलें। भारत में आतंकवाद के लिये कोई स्थान नहीं है। साथ ही जातिवाद, नक्सलवाद, भेदभाव को मिटाते हुये यह संदेश लेकर जाये कि मानव-मानव एक समान सब के भीतर है भगवान। लाखों की संख्या में उपस्स्थित भक्तों ने हाथ खड़े कर स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत का संकल्प दोहराया।
विभिन्न योग संस्थानों से आये योग जिज्ञासुओं ने योग के द्वारा चिकित्सा, प्राणायाम, ध्यान, मुद्रा, योग निद्रा आदि विभिन्न विधाओं का अभ्यास कराया।
इस अवसर पर परमार्थ निकेतन सेवा टीम, पंतजलि सेवा टीम, भारत की विभिन्न योग संस्थाओं से आये योगाचार्यो को स्वामी रामदेव जी महाराज और स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज को रूद्राक्ष की माला पहनाकर सम्मानित किया।
आज के योगाभ्यास शिविर में स्वामी श्री मोहन जी और विश्व के 25 से अधिक देशों से आये योग जिज्ञासुओं ने सहभाग किया।रिपोर्टर-विकास राय

For News Portal Solution

No comments